Tuesday, February 22, 2011

फ़ितरत-ए-इंसां..


पाता है ना खोता है, ग़म-ए-उल्फ़त ही ढोता है,
वहां उम्मीद फूलों की, जहां काँटों को बोता है,
हुई पहली दुआ पूरी कि दूजी आ गई दिल में,
जिसे पाने को तड़पा था, उसे पाके भी रोता है..

6 comments:

  1. बेहतरीन रचना के लिए बधाई ।

    ReplyDelete
  2. इन्सान को संतोष कहाँ...? सुंदर लिखा है..बधाई

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर रचना, धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. बहुत ही उम्दा रचना , बधाई स्वीकार करें .
    आइये हमारे साथ उत्तरप्रदेश ब्लॉगर्स असोसिएसन पर और अपनी आवाज़ को बुलंद करें .कृपया फालोवर बन उत्साह वर्धन कीजिये

    ReplyDelete
  5. सभी का बहुत बहुत धन्यवाद..

    ReplyDelete