Sunday, January 29, 2012

तो कुछ बात बने.. (Part - 1)



कोई जो मुझको समझ पाए, तो कुछ बात बने
समझ के मुझको भी समझाए, तो कुछ बात बने..

यूंही कब तक, तुम्हारी हाँ में हाँ, भरता रहूं मैं,
ज़रा यकीं सा भी आ जाए, तो कुछ बात बने..

मैं तन्हा रात के आलम में, तन्हा लेटा हूं,
जो उसकी याद, तब ना आए, तो कुछ बात बने..

कोई परवाना जल मरे, तो जल मरे, मुझे क्या,
जो शमा ख़ुद को ही झुलसाए, तो कुछ बात बने..

वो जिसका नाम लहू से, रगों पे लिखा हो,
वो अपने हाथ से मिटाए, तो कुछ बात बने..

मैं कब तलक पुराने ज़ख़्म, हरे करता रहूँ,
वो फिर से आए और सताए, तो कुछ बात बने..

किसी ने मारने का जान से, किया था कभी,
वो आए वादे को निभाए, तो कुछ बात बने..

वो जिसके नाम से बदनाम हुआ, नाम मेरा,
उसे लग जाए मेरी हाए, तो कुछ बात बने..

वो जिसको राज़ बताया था, छुपाने के लिए,
वो सारी दुनिया को बताए, तो कुछ बात बने..

ख़ुदा के नाम पे लगाते हैं जो, आग यहां,
ख़ुदा ख़ुद उनके घर जलाए, तो कुछ बात बने..



नोटः यह ग़ज़ल कुछ लम्बी हो गई लिखते लिखते, इसलिये भागों में प्रस्तुत करूंगा..:)

18 comments:

  1. यह तो कुछ वैसे ही बात हुई की "वक्त साथ दे तो कुछ बात बने" :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ji Bilkul :)
      Shukriya Pallavi ji .. :)

      Delete
  2. वाह! बहुत सुन्दर...गज़ब!!!
    'वो जिसके नाम से बदनाम हुआ नाम मेरा,
    उसे लग जाये मेरी हाय तो कुछ बात बने।'
    पर जरा किसी का ये शेर देखें-
    वैसे तो तुम्हीं ने मुझे बर्बाद किया है,
    इल्जाम किसी और के सर जाये तो अच्छा।

    आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 30-01-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bahut bahut shukriya sir.. :)

      Sahir Ludhiyaanvi ji ka to waise bhi koi muqaabala hai hi nahi.. aur us par Rafi saab ki aawaab.. bemisaal .. :)
      Mujhe shaamil karne ke liye bahut bahut dhanyawad sir.. :)

      Delete
  3. वाह !!!! बहुत सुंदर ....पार्ट-2 जल्दी आए तो कोई बात बने....

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bahut bahut shukriya Arun ji.. :)
      Aaj aa jayega Part-2 :D

      Delete
  4. वाह ..बहुत खूब कहा है आपने ।

    ReplyDelete
  5. कल 31/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. Dhanyawad mujhe shaamil karne k liye .. :)

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर...
    ऐसे ही लिखते रहिये... बात बन जाएगी... शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. bahut bahut dhanyawad Sandhya ji.. :)

      Delete
  8. वाह बहुत खूब

    अगर वक्त भी साथ दे तो कुछ बात बने ...........आगे का इंतज़ार रहेगा

    ReplyDelete
  9. sundar itane achhe shabdon maen aapne apni bhavna ka ijhar kiya bdhai.

    ReplyDelete